*🚩. उज्जैन से 10 किलोमीटर दूर ग्राम नीनोरा में 40 साल बाद फिर उमड़ा जनसैलाब ,, गांव के वसूली पटेल भगवान जी शर्मा द्वारा यह आह्वान किया गया जिसमें सभी ने माता पूजन कर परंपरा का निर्वहन किया।।*

Listen to this article

उज्जैन से 10 किलोमीटर दूर ग्राम नीनोरा में 40 साल बाद फिर उमड़ा जनसैलाब ,, गांव के वसूली पटेल भगवान जी शर्मा द्वारा यह आह्वान किया गया जिसमें सभी ने माता पूजन कर परंपरा का निर्वहन किया।।
सिंहस्थ 2016 में इसी ग्राम नीनोरा में संपन्न हुआ था विचार महाकुंभ ,,,,जिसमें भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर संघ और भाजपा के सभी बड़े नेताओ का लगा था जमावड़ा*
महाकाल की नगरी अवंतिका में सामाजिक सांस्कृतिक और धार्मिक आध्यात्मिक प्रकल्प के संवाहक तत्कालीन केन्द्रीय मंत्री अनिल माधव दवे ने जिस वैचारिक महाकुंभ का नेतृत्व कर समाज को नई दिशा देने की शुरुआत की थी…वह ज्योत भले ही बुझ चुकी है,,,, बावजूद स्वर्गीय श्री अनिल माधव दवे से जुड़े परिजन और उनके अनुयायियों को श्रीदवे की कमी अब भी खलती है।*
संघ से लेकर भाजपा और सत्ता से लेकर संगठन तक स्वर्गीय अनिल माधव दवे को बिसरा चुका है… तीन दिवसीय वैचारिक महाकुंभ के दौरान उज्जैन के ग्राम नीनोरा में जो संकल्प लिए गए थे वे सब अनिल माधव दवे के निधन के बाद फाइलों में बंद पड़े हैं*
आज 8 मई रविवार को निनोरा में उमड़े जनसैलाब ने एक बार फिर स्वर्गीय अनिल माधव दवे की याद ताजा करा दी ,,,,,हालांकि इस बार अवसर गांव की परंपरा और धार्मिक प्रकल्प से जुड़ा हुआ है,, जिसमें यहां पर शीतला माता का पूजन प्रत्येक घर में किया गया और करीब 15,000 से ज्यादा लोग निनोरा में जुटे ।।।शनिवार को शोभायात्रा भी निकली और रविवार को सुबह 4:00 बजे से पूजन अर्चन और भोजन कार्यक्रम संपन्न हुआ
घर -खेत खलिहान और परिजनों के बेहतरीन स्वास्थ्य आर्थिक- मानसिक -शारीरिक रोग और बाधाओं से मुक्ति एवं सुख शांति और देश प्रदेश में खुशहाली की कामना को लेकर उज्जैन से 10 किलोमीटर दूर गांव नरोरा में यह पूजन किया गया
निनोरा गांव में बाहर दूरदराज से आए ग्रामीणों की समुचित व्यवस्था जलपान आदि अनिल शर्मा,सोनु शर्मा परिवार द्वारा भी रखा गया ,,,दो दिवसीय इस पारंपरिक आयोजन का समापन रविवार शाम हुआ

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे